Monthly Archives: June 2015

मैं आदमी हूँ

Originally posted on swadharmagyan:
  मैं आदमी हूँ कैसे भी अपनीं थोथी हसरतें पूरी करता हूँ कोई मुझे ख़ुशी दे दे इस चक्कर में दर दर भटकता हूँ बेतुकी बातों पर खींस निकालकर हँसता हूँ दो चार लोगों से मुह…

Posted in Uncategorized | Leave a comment