Monthly Archives: February 2015

समकालीन कविता का आत्मसंघर्ष: सुधीर रंजन सिंह

By सुधीर रंजन सिंह  (इस आलेख को भारत भवन में प्रस्तुत करने को लेकर मुझे एक अत्यंत आत्मीय और अग्रज कवि से तीखे विवाद और आत्मसंघर्ष से गुज़रना पड़ा है। मैं कभी किसी राजनीतिक संस्था या लेखक संगठन का सदस्य नहीं…

Posted in Uncategorized | Leave a comment

Inspiring Approach of Artist & Mentor, Ann Rea

Originally posted on Karen Longden-Sarron Art:
I discovered artist Anne Rae on the web and thought I would share her bold and unique success story with you today. Bold because she hasn’t pursued the usual methods of selling her art…

Posted in Uncategorized | Leave a comment